सोमवार, 8 अक्तूबर 2018

कुत्सित  मानसिकता कोढ़ है समाज पर

बलात्कारएक कोढ़  है समाज पर।ऐसे बलात्कारी जिनका परिवार(पत्नी और बच्चे )होते हैं  उनकी पत्नियों के विषय में सोचें तो  उनके लिए  तो विवाह एक पवित्र सम्बन्ध कहा ही नहीं जा सकता . यह संसार का सबसे अपवित्र रिश्ता  बन जाता है. एक कोढ़ जो जीवन लेकर ही जाता है. ऐसे  बलात्कारियों की पत्नी अपने तन -मन पर शादी के रूप में बहुत बुरा बलात्कार झेलती है। उनकी पीड़ा को यदि  गहराई से  समझा जाये तो शरीर क्या रूह भी काँप जायेगा 

  इन पीड़ित महिलाओं को इस आग को उन निर्दोष लड़कियों  को सौंप देना चाहिए  जो आज इस कम वासना का शिकार बन रही हैं।मेरी माताओं और बहिनों से एक ही प्रार्थना है कि  वे  पुरुषों  को इतना ज्ञान दें  कि  वे नारी का सम्मान करना सीखे।

अगर कोई किसी की लड़की के साथ  गलत करता है तो उसकी माँ  ही ऐसे बेटे को गोली मार दे जैसे फिल्म "मदर इन्डिया" में बरसों पहले दिखाया गया था। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी: केवल इस ब्लॉग का सदस्य टिप्पणी भेज सकता है.