सोमवार, 17 मई 2021

कोर्ट : एक धोका , जेल : आत्मसुधार केंद्र

19 March 2021
आज  मै सेंट्रल जेल नरसिंहपुर गई  और जेल सुपरिंटेंडेंट मैडम शैफाली तिवारी से मिली।जेल के मुख्य द्वार पर लिखा हुआ है घृणा पाप से करो पापी से नहीं।

नरसिंहपुर  का यह सेंट्रल जेल पहले बोरस्टलजेल के नाम से जाना जाता था । यह किशोर बंदी गृह मध्य प्रदेश का एकमात्र जेल था।  

यह जेल साल में एक बार गणेश स्थापना अवसर पर गजानन दर्शन हेतु  पब्लिक के दर्शनार्थ खोला जाता था। जहां हम अपने माता पिता और परिजनों के साथ गणेश जी के दर्शन हेतु जाते थे और कैदियों द्वारा बनाई गई हस्तशिल्प कला और अन्य रचनात्मक कार्यों को देखते और उनकी हौसला अफजाई करते थे।

यह जेल नरसिंहपुर स्टेशन के पास स्थित है। वर्तमान में यहां कैदियों की संख्या 1300 है जो कि एक बहुत ही चिंतनीय विषय है। अपराध और अपराधियों की बढ़ती संख्या को देखकर निश्चित रूप से बहुत ही दुख होता है।

अपराध की संख्या देखते हुए ऐसा लगता है  कहीं एक दिन ऐसा ना आ जाए कि अपराधियों की संख्या इतनी बढ़ जाए कि जेल भी छोटी पड़ जाए।

कारागार  सुधार  गृह भारतीय कानून व्यवस्था का एक महत्वपूर्ण  अंग है । नरसिंहपुर सेंट्रल जेल की जेल अधीक्षक के  अथक प्रयासों के बाद यह जेल *आश्रम* जैसा स्थान  लगता है। सफेद कुर्ता- पैजामा और सफेद टोपी पहने हुए कैदी अपने- अपने कार्यों में मग्न दिखाई दिए। सभी दिल लगाकर एकता से एकाग्रता से कार्य कर रहे थे। जब व्यक्ति कोई काम नहीं करता है तभी उसके मन में अनेकों विचार आते हैं यह भी कहा गया है *खाली दिमाग शैतान का घर* ।कुछ ना कुछ करते ही रहना चाहिए । एक कैदी को उसकी सामर्थ्य के अनुसार कार्य देना ,निश्चित ही यह कुशल प्रशासनिक अधिकारी की ही पहचान है। 

जेल के गेट में प्रवेश होते ही *ययाति* की पेंटिंग  है जोकि है बहुत ही प्रेरणादायक है। उसके बाद मैडम शैफाली तिवारी के द्वारा बनाई गई *महात्मा ‌बुद्ध* की पेंटिंग हृदय परिवर्तन  और *आत्मज्ञान तथा ध्यान पर* केंद्रित है।

वैसे तो  विस्तार से देखें तो हम सभी इस संसार में कैदी ही हैं  और  यदि आध्यात्मिक स्तर पर देखें तो हमारी आत्मा विभिन्न प्रकार के बंधनों से बंधी हुई इस शरीर रूपी पिंजड़े में कैद है।
जब हमें आत्मज्ञान प्राप्त होता है तब हम इस माया नगरी और मायापति को समझने में सक्षम हो जाते हैं।

यदि जनसाधारण को यह समझ में आ जाएगी *ब्रह्म सत्य जगत मिथ्या* और हम सब उस  ईश्वर के अंश  है  आत्मा अर्थात जीव जो अविनाशी  है तो विषय विकारों की बहुत हद तक छुट्टी हो जाए।

कारागार  में रहकर ही बहुत से असाधारण कार्य हुए  महात्मा गांधी , नेहरू , विनोबा भावे ने लोक कल्याण हेतु  किताबें  लिखीं। लोकमान्य गंगाधर तिलक ने  गीता लिखी जो  कर्मयोग की दुनिया में सबसे अच्छी व्याख्या करती है।  


यह भजन वैसे तो दो आंखें बारह हांथ फिल्म से है,यह फिल्म प्रेरणा।  देती है कि  समाजसुधार में आध्यात्मिक बल का उत्कृष्ट योगदान होता है,  इसमें हमें आत्म सुधार देखने को मिलता है। 

लगान  फिल्म में भी सच्चाई का ही बल और पुरुषार्थ और माँ का बच्चे के साथ मनोबल के रुप में खड़ा होना, मूल तत्व के रुप में है। 

मेरा भी यही मानना है कि जब तक  व्यक्ति आत्मज्ञान  हेतु प्रयास नहीं होता तब तक व्यक्ति गलत राह में भटक सकता है। 

मैडम तिवारी के बारे में नरसिंहपुर वासियों की राय है कि उन्होंने कारागार को जन्नत बना दिया है अपराधी अब कारवास से बाहर जाना  नहीं चाहते हैं । वास्तव में , शेफाली तिवारी मैडम highly intellecutal multidimentional personality की स्वामिनी हैं।
कारावास के बारे में यह भी प्रसिद्ध है कि *मथुरा में श्री कृष्ण भगवान का जन्म भी कारावास में* ही हुआ था अतः कारावास कोई अभिशप्त जगह नहीं है।

मैडम शेफाली तिवारी के  प्रयासों का ही यह प्रतिफल है कि अपराधियों द्वारा विभिन्न प्रकार रचनात्मक कार्य *कुशलतापूर्ण* किये जा रहे हैं जैसे संगीत कार्यक्रम की प्रस्तुति के लिए सुंदर स्टेज का निर्माण ,  लकड़ी से कुर्सी टेबल बनाने का काम, बाग बगीचे की देखरेख , हॉर्टिकल्चर, चित्रकारी, शिल्प कला, शास्त्रीय संगीत  सुर-ताल राग का विधिवत प्रशिक्षण जैसे तबला हारमोनियम ढोलक में कैदियों को विशेष रूप से प्रशिक्षित करवाना और उनके लिए अपनी ओर से संगीत शिक्षक की व्यवस्था करना, उनसे सहृदय व्यवहार करना यह सिद्ध करता है कि  अपराधियों के लिए उनके मन में सुधार की भावना है।

Music Therapy या संगीत चिकित्सा किसी भी अन्य चिकित्सा पद्धति के समान मानसिक रोगों की चिकित्सा कर रोगी के स्वस्थ होने की दर को बढ़ा देती है और व्यक्ति पुनः एक नए जीवन का शुरुआत करता है पिछली जिंदगी को भूलकर आगे की नई जिंदगी को सही दिशा ले जा सकता है। 

कैदियों  को काउंसलिंग देने का कार्य सिर्फ वही कर सकता है जो परमात्मा का अनन्य भक्त हो जिस पर परमात्मा की अनन्य कृपा हो जो अपनी संगति से गलत रास्ते पर चलने वाले व्यक्तियों को सही रास्ते पर ना सके।कोई भी टीचर या कोई भी काउंसलर सिर्फ प्रेरणा दे सकता है गृहण करना तो सामने वाले व्यक्ति पर निर्भर करता है।मेरी पीएचडी का विषय  ट्रांसफॉरमेशन ऑफ माइंड है और यह विषय साइकोलॉजि का है ।

तुलसीदासजी कहते हैं- “सठ सुधरहिं सतसंगति पाई। पारस परस कुधात सुहाई” अर्थात दुष्ट प्राणी भी अच्छी संगति पाकर सुधर जाते हैं जैसे पारस के स्पर्श से लोहा सुंदर चमकीला हो जाता है.
 
कई बार यह भी देखा गया है  कोर्ट के गलत निर्णय की वजह से निर्दोष व्यक्ति सजा पाता है । ऐसे  तथाकथित न्यायाधीशों को तो ईश्वर  या  प्राकृतिक  न्याय व्यवस्था ही दंडित करती है। 

अभी हाल ही में पता चला है कि  उत्तर प्रदेश का एक व्यक्ति  वकील और सबूत के अभाव में  कोर्ट केस हर जाता है और बीस वर्षों तक सजा पाता है और  एक दिन जब दूसरी कोर्ट  का यह निर्णय आता है कि यह  निर्दोष है इसे सजा मुक्त किया जाता है जब वह अपने घर लौटता है तो उसके माता पिता  दुनिया में नहीं होते हैं उसका परिवार इस दुनिया में नहीं  होता है । अतः वह फिर से कारागार में अपने जीवन जीने की व्यवस्था ढूंढता है। ना तो  उन्हे हाई कोर्ट ना ही सुप्रीम कोर्ट ही   बेचारे अशिक्षित कैदियों को कैद से छूटने के बाद उनके परिवार उन्हें स्वीकार नहीं कर पाते हैं उन का भरण पोषण नहीं कर पाते हैं अतः वे जानबूझकर कोई दूसरा अपराध करते हुए दिखाई देते हैं और कारागार में रहने की व्यवस्था ढूंढते हैं। 

वास्तव में जैसा मैंने अनुभव किया  कारावास में  साधारण निम्न वर्ग के अपराधी ज्यादा थे । आजकल विशेष श्रेणी के राजनैतिक और संपन्न अपराधी जैसे सलमान खान और संजय दत्त  के लिए कारागार सुरक्षित आराम गृह  और पुलिस व दूसरे गैंगो से बचने का सुरक्षित स्थान बन चुके हैं।

वास्तव में, जब  मानसिक अस्वस्थता ही व्यक्ति को गलत रास्ते पर ले जातीहै। Strong mind  वाला व्यक्ति अपनी क्षमता पर विश्वास रखता है अपने स्वविवेक से निर्णय लेते हुए अपना जीवन आनंद पूर्ण जीता है। इसी लोक कल्याण की भावना को हमें जन-जन तक पहुंचाना चाहिए और  जीवन जीने का वास्तविक लक्ष्य इंद्रिय सुख ना होकर  ईश्वर प्राप्ति होना चाहिए। 

यह संदेश हम ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचा सके तो अपराध की बढ़ती संख्या को कम कर सकते हैं।


रविवार, 16 मई 2021

जाऊं कहां तजि चरण तुम्हारे : जगदम्बा मां

उन्होंने हमेशा मुझे अपना आशीर्वाद दिया उनके अंतिम शब्द थे अब तुम खुश रहना ।  तुम्हारी पीएचडी हो गई ।मेरा आशीर्वाद तुम्हारे साथ है। मैं  बहुत दुखी हो गई  , ...' ' मां तुम कहां जा रही हो  ऐसा मत कहो तुम हो तो मै खुश हूं।"

मां की सौम्यता और दयालुता के लिए आत्मीय स्वजन उनकी सदा सराहना करते आए हैं। मां जगदम्बा के अवतार के रूप में  घर परिवार को संवारती हैं। उनके  योगदान से ही घर एक मंदिर बन जाता है और लोगों द्वारा  ईश्वर की पूजा की जाती है। 

परिवार में होने वाली समस्याओं का सामना करने के लिए धैर्य और क्षमता के लिए उन्हें गुरुदेव और अन्य पूज्य लोगों द्वारा सराहना मिली। उन्होंने पत्नि के रूप में अपने पति की  देवी सीता के समान सेवा की। 

मां के अस्तित्व का पहला प्रमाण उनकी संतान हैं उनकी बनायी हुई यह गृहस्थी संसार अर्थात् परिवार है। मै अपनी मां की परछाई मैं अपने में और भाईयों में देखती हूं। मां भले ही भौतिक स्वरूप में हमारे साथ न हों पर हर समय उनका आर्शीवाद हमारे साथ रहता ही है ।यह अनुभूति परक सत्य है।माता पिता  ही हमारे प्रथम गुरु हैं। 

मां के स्वभाव व आचार विचार में ध्यान से उत्पन्न प्रेम और शांति, गुरु  आशीष की अनुभूति होती।  उनका चेहरा हमेशा फूल के समान खिला रहता । पारिवारिक सदस्यों  में भी एक आध्यात्मिक आश्वस्ति की अनुभूति होती। हो भी क्यों नहीं, योग साधना ध्यान तपस्या का संगम जो था नरसिंहपुर स्थित निवास स्थल । ध्यान की शांति में ईश्वर  गुरुदेव की  उपस्थित आशीर्वाद का आभास होता।
जिस साधना को पाने के लिए योगी अपने जीवनके अमूल्य समय को नष्ट करते हैं, उसे सहज ही सर्वसाधारण के लिए सुलभ नहीं होने देते गुरुदेव ने हमें वही  साधना प्रदान की। योगी या महात्मा  ईश्वर की शास्वत् सत्ता में निवास करता है।

यह वह स्थल है, जहां हमारे गुरुदेव ने हमारे साथ चातुर्मास किया। इसी घर में हमारे माता पिता की दीक्षा हुई आत्मज्ञान प्राप्त करने हेतु ध्यान करने साधक गण आए  ।   यह स्थान  दोनों जन्मभूमि व  कर्मभूमि भी बनी। गुरुदेव के दर्शन करने  दूर-दराज से उनके भक्त आते।  सभी भक्त अनुशासित और ध्यान में मग्न रहते।

 मां अहंकार, राग-द्वेष, स्वार्थपरता, मिथ्याभिमान, अहंभाव, काम, लोभ तथा क्रोध से सर्वथा मुक्त रहीं। इसलिए कई साधक उन्हें परमहंस योगी तक की उपाधि देते।

 मां की आवाज बहुत ही मधुर थी वे जब गाती ऐसा लगता है कि कोई सिद्ध गायिका गा रही हो। वे सभी रागों के गीत गा लेती थी और बहुत ही प्रवीणता के साथ। उनकी आवाज में चुंबकीय आकर्षण था। वे नृत्य कला मैं भी पारंगत थी। पारिवारिक सदस्य  बुआ जी पापा जी और दादी सब उन्हें लता मंगेशकर कीउपाधि देकर उनके गायन संगीत का सम्मान करते परंतु शास्त्रीय संगीत को उन्होंने अपना व्यवसाय या प्रोफेशन नहीं बनाया। रामचरितमानस जब भी गाती तब हम उन्हें बहुत ध्यान से सुनते और आनंद लेते।

मां पाक कला में भी प्रवीण थीं चूंकि वे जीव विज्ञान  संकाय की विद्यार्थी रही थी अतः  किस सब्जीमे कौन सा विटामिन, प्रोटीन, मिनरल्स मिलते हैं यह उनको पता होता. जिन के लिए खाना बनाया जा रहा है उनको रोज कैसा खाना जरूरी है  डाइबिटीज थायरॉयड ब्लड प्रेशर वालों को कैसा  भोजन लेना चाहिए  ये सब भी उन्हें पता होता।  मां केवल  चुनिंदा  रोटी सब्जी दाल चावल अचार पापड़ सलाद को ही  रोज का भोजन न बना कर अलग अलग रेसिपीज को भी बनातीं कभी  कुछ अच्छा पत्रिकाओं में पढ कर कभी बाहर  खाकर उन सभी रैसिपीज को भी ट्राई करती। मां का प्यार मा  के हाथ का भोजन प्रशाद बहुत स्वादिष्ट प्रेम पूर्वक बनाई गई स्वास्थ्य वर्धक रसोई होती। कहते हैं ना जैसा खाए अन्न वैसा बने मन।

बचपन में हम तीनों  बच्चों के लिए हमेशा नई  नई अच्छी अच्छी चीजें बनाकर खिलातीं। अच्छा खाना पकाने की वजह से उनकी हर तरफ तारीफ होती । रिश्तेदार मां के हाथ का साधारण सा भोजन कर  के भी उनकी तारीफ करते और उनके खाना बनाने के हुनर की वजह से इज्जत भी करते। हम तीनों बच्चों को भी किचन में काम करना पसंद था कुकिंग में रुचि थी तो मां हमें इसके लिए प्रोत्साहित करतीं थीं  वे कहतीं  खाना बनाना एक ऐसा कौशल है जो जीवन में बहुत आवश्यक है। 

 घर की  व्यवस्था की ज़िम्मेदारी भी वे  बहुत ही कुशलता के साथ निभातीं। यह बहुत ही आश्चर्य करने वाली बात है और सुखद भी  कि उनके सभी कपड़ेे आलमारी में बहुत ही सुव्यवस्थित तरीके से रखे रहते। किचन की अलमारी में कौन से खंड में किस नंबर पर धने का  हल्दी का स्टील का डिब्बा रखा है उन्हें आखिरी समय तक याद था। किचन के सभी डिब्बे साफ  करीने से रखना उनके व्यक्तित्व  का  एक और प्रमुख  गुण था ।

मां पढ़ी लिखी सुशिक्षित हाउस वाइफ थीं। उन्हें सरस्वती शिशु मंदिर स्कूल में टीचर शिप के लिए भी आमंत्रित किया गया था परंतु उनके लिए घर और परिवार ही सर्वोपरि था।  उनका पूरा ध्यान  उनके जीवन की धुरी सिर्फ उनका घर परिवार था।  जिससे वे समय पर आसानी से काम कर लेती थीं. वे अपने घर के कामों को बखूबी संभाले हुए थीं।. पिताजी को घर की शॉपिंग की लिस्ट बनाकर देना, खाना बनाना,  सभी बच्चों को पढ़ाना या घर की सफाई सभी चीज समय पर और परफेक्ट , तभी तो ससुराल में उन्हें कहते कि वे घर गृहस्थी चलाने में पीएचडी हैं।

 उन्होंने हमेशा बहुत ही समझदारी शांति और मौन- कम बोलना ज्यादा समझना से काम लिया हर   झगड़ालू इंसान से वाद-विवाद  कर अपना मूड ख़राब करने से हमें बचाती  और इससे बचने के  खुद भी हर संभव प्रयास करतीं क्योंकि किसी भी तरह का विवाद हमारे  लिए मददगार  सिद्ध नहीं होता।
वे कहतीं  जिस तरह  खाने को लज़ीज़ बनाने के लिए खट्टा मीठा, तीखा, कड़वा सभी स्वाद आवश्यक  है, उसी तरह जीवन में सभी रंग होते हैं थोड़ा-सा दुःख भी जीवन में ज़रूरी है और तभी सुख की असली क़ीमत पता लगती है. 

कभी कभी जब हम ग़ैर-यथार्थवादी बातें करते  और अपने जीवन को अपने ही हाथों गलत दिशा में ले जाते हैं मां हमेशा हमें सही राह पे ले जाने की कोशिश करतीं‌ परंतु शायद मां हमारे प्रारब्ध से संघर्ष नहीं कर पातीं।  जरा सा भी दुख बच्चों को ना हो मां हमेशा ईश्वर से यही दुआ करतीं। जब हमारे दोस्तों से हमारा झगड़ा होता यह झगड़ा कई बार  मूड ख़राब कर देता और हम अपना आपा खो देते  इससे और आग  भड़कती तब  मां कहती अगर तुम सहयोग नहीं करोगे , तो कोई तुमसे नहीं झगड़ सकता है. वे प्रेमी स्वभाव की बहुत ही सौम्य और कोमल ह्रदय के व्यक्तित्व की स्वामिनी थीं। उनका कहना था सबसे अच्छा रिश्ता बनाए रखने की कोशिश करो  प्रेम से बात करो। 

कभी कभी ग़लतफ़हमी के चलते हमारे और हमारे प्रिय जनों के बीच थोड़ी दरार पड़ जाए तो भी वे कहती कि लड़ाई झगड़े के बावजूद भी अपने व्यवहार में  संजीदगी बनाए रखना चाहिए . यदि कोई समस्या है तो उसे  तुरंत खत्म कर देना चाहिए  समस्या को हल्के में नहीं लेना चाहिए। अपने आपको हर परिस्थिति में ढालने की कोशिश करते  रहना चाहिए । वे कहतीं किसी समस्या को टालना नहीं, बल्कि जल्दी-से-जल्दी उसका समाधान ढूंढने की कोशिश करना चाहिए. दूसरों को यह बताने के लिए ज़्यादा उतावले नहीं होना चाहिए कि आज आप कैसा महसूस कर रहे हैं. यदि  जीवनसाथी की वजह से  दिल दुखता है तो अपना मन कुछ अच्छा पढ़ने में लगाओ या घर के काम में अपना दिमाग डाईवर्ट करो , किसी बगीचे में घूम आओ या  अपने  किसी  पालतू पशु के साथ समय बिताकर  अपना मूड  फ्रेश करने  की  कोशिश करो।

मां घर परिवार में सुखद वातावरण के साथ-साथ डेली रूटीन के काम कर अनुशासन  भी बनाए रखतीं। भाषा की मर्यादा बनाए रखना हमने उनसे ही सीखा। मां ने  कभी भी किसी से  ऊंची आवाज में बात नहीं की ना ही उत्तेजित होकर किसी को डांटा । वे सदैव ही हंसती मुस्कुराती रहतीं। हर आने वाले व्यक्ति का दिल से स्वागत करतीं और  भोजन करवातीं।  हमें तो हमारी मां मां जगदंबा का अवतार सी लगतीं  -जय जय जय जग जननी माता द्वार तिहाारे जो भी आता बिन मांगे सब कुछ पा जाता।
हमारी मां  संपन्न घराने से थीं हर चीज से संतुष्ट  उनके घर में किसी भी बात की कमी नहीं थीं । हर काम के लिए उनके मां - पापा  के यहां नौकर लगे हुए थे परन्तु ससुराल में उन्होंने किसी भी काम से परहेज़ नहीं किया । उनके हर काम  में पूर्णता थी ।उनके कपड़े बिल्कुल साफ स्वच्छ धुले हुए रहते वे कपड़े इस्त्री करके पहिनती थीं। आज भी अलमारी में हर कपड़ा बहुत ही सलीके से संभाल के प्रेस करके रखा मिलेगा

इतनी पढ़ी लिखी अच्छे घर से होने के बावजूद भी गेहूं साफ करके पिसवाना हल्दी धना पिसवाना, सभी प्रकार के अचार बनाना यह सब उनका सदाबहार काम रहता था। चावल के  पापड़ , उरद मूंग के पापड़ , बिजौरा आंवले का मुरब्बा , नींबू का अचार, आंवले का अचार उनके हाथ का बनाया हुआ आज भी हम खा रहे हैं।
 
हम पैसे तो बना सकते हैं परन्तु मां का जीवन हमारे  हाथों से फिसल गया। न ही चिकित्सक, न संपर्क और न ही दोस्त मददगार  सिद्ध हुए .  उनके साथ बिताया हुआ समय बहुत ही आनन्ददायी और  शांतिपूर्ण रहा। हर संपर्क में आने वाला व्यक्ति रिश्तेदार मा से प्रभावित रहता हमारी बड़ी बुआजी और दादी हमारी मां की बहुत प्रशंसा करतीं उनके लिए  हमारी मां घर गृहस्थी में पीएचडी थीं। यह बहुत बड़ी उपाधि है मां के लिए।

मां ने हर परिस्थिति में  ससुराल का अपने परिवार का साथ दिया  छोटी बुआ की शादी के लिए उन्होंने अपने सारे सोने के जेवर गहने बुआ को दे दिए। बड़ी बुआ हमेशा नरसिंहपुर आती रहती उनके बच्चों को भी मां पढ़ाती और अपने बच्चों का प्यार दुलार उन पर लुटातीं रहतीं। दोनों बुआ के बच्चों ने हमारे माता-पिता के सहयोग से ही अपनी पढ़ाई पूरी की। मां का कहना था अगर आप किसी परिस्थिति से घबराकर भागेंगे- तो वह आपका पीछा हर निकृष्ट तरीक़े से करेगी. किसी के साथ तनावपूर्ण संबंध को जहां तक सम्भव हो बात को बढ़ने न दें.। ऐसी निश्छल निर्मल निष्काम मां की महिमा को कोटि-कोटि प्रणाम🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻